Translate

अब ट्रेन में लोअर बर्थ लेना पड़ेगा महंगा!

रेल यात्रियों को नीचे की सीट (बर्थ) का विकल्प चुनने या त्योहारी मौसम में यात्रा के लिए अपनी जेब अधिक ढीली करनी पड़ सकती है। रेलवे की किराया समीक्षा समिति ने ये सिफारिशें की हैं। यदि रेलवे बोर्ड इन सिफारिशों को स्वीकार कर लेता है तो रेल यात्रियों को नीचे की बर्थ या त्योहारी सीजन में टिकट बुक कराने पर अधिक भुगतान करना होगा।

सूत्रों ने कहा कि जिस तरह से विमान में यात्रियों को आगे की लाइन की सीटों के लिए अधिक भुगतान करना पड़ता है उसी तरह ट्रेनों में भी यात्रियों से उनकी पसंद की बर्थ के लिए अधिक किराया वसूला जाना चाहिए। सूत्रों ने कहा कि सुविधाजनक समयसारिणी तथा किसी विशेष मार्ग पर लोकप्रिय ट्रेनों का किराया बढ़ाया जा सकता है।


1. खिड़की वाली सीट के लिए एक्स्ट्रा चार्ज (लोअर बर्थ).
2. ओवरनाइट जर्नी (एक रात में पूरी होने वाली यात्रा) के लिए एक्स्ट्रा चार्ज.
3. त्योहारों पर यात्रा करने पर एक्स्ट्रा चार्ज.
4. पैंट्री कार वाली ट्रेन में चलने के लिए एक्स्ट्रा चार्ज.
5. ‘सुविधाजनक’ टाइम पर चलने वाली ‘पॉपुलर’ ट्रेन में चलने के लिए एक्सट्रा चार्ज.
6. असुविधाजनक टाइम (रात 12 से सुबह चार और दोपहर एक से पांच बजे के बीच) पर पहुंचने वाली ट्रेन में चलने पर डिस्काउंट.


Indian Railway, Lower birth, Fare enquiry


Railway passengers could be shelling out more for choosing lower berths and travels during festive seasons, if the recommendations of a fare review committee are approved by the IRCTC Board.
                                              
The panel constituted to review the flexi-fare system in premium trains has recommended that the transport behemoth adopt the dynamic pricing model followed by airlines and hotels, sources said. Like flyers pay more for front-row seats, railway passengers too could be paying extra for seats of their choice, the sources said.

There also could be an increase in fares of trains which have "convenient" timings and are more popular on a particular route, they said.  The committee has also recommended that instead of having flat fares,  Indian Railways should increase fares during festive seasons, and reduce them during lean months.

It has also suggested that passengers be offered discounts on trains reaching destinations at inconvenient times, for example between 0000 and 0400 hours and 1300 and 1700 hours, they said.

The committee, which submitted its report to the Railway Board yesterday, has proposed these changes in the flexi-fare system which led to up to 50 per cent increase in fares of premium trains. Under the flexi formula, base fares increase by 10 per cent (up to 50 per cent) after every 10 per cent of berths booked. The committee, the sources said, has also recommended premium charges for overnight trains and trains with pantry cars.

BUZZ NEWS

Powered by Blogger.