Translate

IRCTC को देना पड़ेगा 25,000 रुपए का जुर्माना



IRCTC की ओर से एक यात्री को गलत मैसेज चला गया। गलत मैसेज जाने के कारण IRCTC पर 25,000 रुपए का जुर्माना लगा। IRCTC की ओर से Mahabodhi एक्स्प्रेस के एक यात्री को गलत मैसेज भेजा गया था, जिसके बाद यात्री ने शिकायत दर्ज की। IRCTC पर यात्री ने खराब सेवा के तहत केस कर दिया है और साथ ही यह भी आरोप लगाया है कि IRCTC की वजह से उसे फिजिकल और फाइनेंशियल रूप से दिक्कत का सामना करना पड़ा।

यात्री ने IRCTC के खिलाफ दिल्ली डिस्ट्रिक्ट कंज्यूमर फोरम में इस मामले की शिकायत दर्ज की। बता दें कि विजय प्रताप सिंह को अपने बेटे अक्षत के साथ 29 मई को इलाहाबाद से दिल्ली आना था। वह दोनों Mahabodhi एक्सप्रेस से दिल्ली आने वाले थे। मैसेज में लिखा था कि ट्रेन रद्द हो गई है। वहीं, अगर यात्री को पैसे रिफंड चाहिए तो, उन्हें टिकट कैंसिल करा देनी चाहिए। उन्हें IRCTC ने एक टिकट के पैसे रिफंड किए क्योंकि दूसरी टिकट तत्काल कोटे में बुक की गई थी। हालांकि, ट्रेन रद्द होने पर यात्रियों को पूरे पैसे मिलने चाहिए।

वहीं, उनके बेटे को दिल्ली जाना बहुत जरूरी था और उस दिन कोई दूसरी ट्रेन भी नहीं थी, इसलिए उन्होंने अपने बेटे के लिए कैब बुक करी। दिल्ली आने के बाद उन्हें पता चला कि Mahabodi एक्सप्रेस इलाहाबाद से दिल्ली के लिए रवाना हुई थी। इसके बाद विजय प्रताप सिंह दिल्ली डिस्ट्रिक्ट कंज्यूमर फोरम पहुंचे और वकील संजीव निर्वानी के जरिए शिकायत दर्ज की।

जिसके बाद फोरम ने IRCTC को आदेश दिया है कि वह सिंह को 25,000 रुपए मुआवजे के तौर पर दें, क्योंकि IRCTC की वजह से उन्हें फिजिकल और फाइनेंशियल रूप से दिक्कत का सामना करना पड़ा। जिसके बाद IRCTC इस आदेश के खिलाफ दिल्ली स्टेट कंज्यूमर डिस्प्यूट रीड्रेसल कमीशन में चला गया और कहा कि उपभोक्ता फोरम ने उन्हें कोई नोटिस तक नहीं भेजा।

वहीं, दिल्ली स्टेट कंज्यूमर डिस्प्यूट रीड्रेसल कमीशन के सदस्यम अनिल श्रीवास्तव और ओपी गुप्ता ने भी सुनवाई के बाद उपभोक्ता फोरम के फैसले को सही ठहराया और माना कि IRCTC की खराब सेवा के चलते यह हुआ। सुनवाई के बाद कोर्ट ने यह माना कि अगर मैसेज गलती से चला गया था तो दोबारा सही मैसेज भेजा जा सकता था, लेकिन ऐसा नहीं किया गया।

IRCTC was recently taken to consumer court and slapped with a fine of Rs 25,000 for sending the wrong SMS to passengers Mahabodhi Express. The mistake proved dear for the railway's ticket booking service provider after the passenger, Vijay Pratap Singh, a resident of Vaishali in NCR had sued it for deficiency in service.

The passengers, son and father duo, were set to board the train, destined for Allahabad from Delhi on May 29 and just before the journey had received an SMS from IRCTC that said that the train had been cancelled and the passengers should cancel their tickets in case they wanted a refund.

Later, the stance changed and it turned out that the message was sent by mistake and the train did depart from Delhi that day. Singh decided to take the legal turn after IRCTC failed to respond to their requests for a refund.

Vijay cancelled both the tickets and booked his son a cab to go to Allahabad as he had some urgent work there. Singh had only got the refund amount of one ticket- as the other one was booked on Tatkal. He approached the Delhi district consumer forum seeking a refund for the cab fare and the ticket price, the forum directed IRCTC to pay Rs 25,000 to Singh as a compensation for causing “stress, harassment and financial hardship”."

Assuming that the SMS (by the railways) was sent inadvertently, another SMS could have been sent, recalling the earlier message and intimating that the train would leave from Allahabad at the appointed date and time, which was not done. This itself shows and proves the deficiency significantly," the court observed as per the report.

No comments:

People

Powered by Blogger.