Translate

अब यात्री कर पाएंगे पसंद की सीट पर सफर!

Railways, PNR, irctc availability, Railyatri, indian railways train status, Railway app, indian railways pnr
रेलवे अपने टिकट बुकिंग सिस्टम को और ज्यादा यूजर्स फ्रेंडली बनाने की कवायद मे जुट गया है। इस बदलाव के बाद ट्रेन में पसंद की सीट को चुनने का तरीका बदल जाएगा। रेल मंत्रालय के निर्देश पर आईआरसीटीसी के ऑनलाइन टिकट बुकिंग सिस्टम को अपडेट करने के लिए नए व आधुनिक सॉफ्टवेयर लाने की कोशिश की जा रही है। इसके लिए रेलवे की पीएसयू क्रिस ने काम करना शुरु कर दिया है। इस सॉफ्टवेयर में कई ऐसे फीचर होंगे, जो यात्रियों का सफर आसान बनाने में मदद करेंगे।

टिकट बुकिंग सिस्टम के नेक्स्ट जनरेशन सॉफ्टवेयर में कई ऐसे फीचर होंगे जिससे रेल यात्रियों का सफ़र काफी आसान हो सकेगा। इसके साथ ही टिकट बुकिंग के दौरान यात्री अपनी सीट का चयन भी कर सकेंगे। रेलवे बोर्ड के एक आला अफसर के अनुसार, रेल मंत्रालय ने क्रिस को इस बारे में निर्देश दे दिए हैं और नेक्स्ट जनरेशन का सॉफ्टवेयर कैसा हो इसके बारे में लगातार हर हफ्ते मीटिंग की जा रही है। पूरा का पूरा ब्लू प्रिंट तैयार किया जा रहा है। नेक्स्ट जनरेशन सॉफ्टवेयर का ब्लूप्रिंट तैयार हो जाएगा तो रेल मंत्री सुरेश प्रभु के सामने इसको पेश किया जाएगा। उनकी मंजूरी मिलने पर इसको एक्टिवेट कर दिया जाएगा। ऐसा अनुमान है इस पूरी प्रक्रिया में तकरीबन 1 साल का वक्त लग जाएगा यानी 2018 में रेलयात्री टिकट बुकिंग में नई सुविधाओं के साथ सफर कर सकेंगे।

नेक्स्ट जनरेशन टिकट बुकिंग सिस्टम जहां एक तरफ यूजर फ्रेंडली होगा, वहीं दूसरी तरफ इसके लागू हो जाने से भारतीय रेलवे को भी फायदा मिलने की संभावना है। नए सॉफ्टवेयर में रेलवे यह व्यवस्था कर सकेगा कि एयरलाइंस की तरह यात्री को पहले उसका कोच या टिकट नंबर बताने की बजाए सिर्फ कंफर्म टिकट होने की जानकारी दी जाएगी और बाद में चार्ट तैयार होने पर यात्री को उसका सीट नंबर एसएमएस कर दिया जाएगा। इस व्यवस्था में सबसे बड़ा फायदा यह होगा की रेलवे को समय रहते यह पता चल पाएगा कि उसके कितने कोच भर पा रहे हैं और इसी के आधार पर ट्रेन में लगाए जाने वाले डिब्बों की संख्या घटती बढ़ती रहेगी।

इसका सीधा फायदा यह होगा कि उन रेलवे रूट्स पर जहां पर यात्रियों की डिमांड कम है, कम डिब्बों के साथ ट्रेन चलाई जाएगी और जिन इलाकों में रेल यात्रियों की मांग ज्यादा होगी वहां पर ज्यादा डिब्बों के साथ ट्रेन चलाई जा सकती है। इस तरह की व्यवस्था से रेलवे की कमाई बढ़ने की पूरी संभावना है। नेक्स्ट जनरेशन टिकट बुकिंग सिस्टम में तमाम दूसरी सेवाओं को भी शामिल किए जाने की संभावना है। रेलवे के एक अधिकारी के मुताबिक बुकिंग सिस्टम में कैब, ई-कैटरिंग, व्हीलचेयर, कुली और वेटिंग रूम की बुकिंग का भी प्रावधान किया जाएगा यानी एक जगह पर ही रेल यात्री को तमाम सुविधाएं बुक करने का मौका मिलेगा। इसके अलावा इंटरनेट पर हैकिंग के बढ़ते खतरों से निपटने के लिए नए सॉफ्टवेयर में तमाम सुरक्षा फीचर्स भी दिए जाएंगे।

News Courtesy: NaiDunia

ALSO READ:-

BUZZ NEWS

Powered by Blogger.