मानव रहित क्रॉसिंग हटाएंगे, सेफ्टी ऑडिट से सुरक्षित होगा ट्रेन का सफर

बीतेदिनों हुए ट्रेन हादसों के बाद रेलवे ट्रेनों में यात्रियों के सुरक्षित सफर को लेकर गंभीर हुआ है। नतीजतन उत्तर-पश्चिम रेलवे जोन में हर साल 200 मानव रहित क्रॉसिंग हटेंगे। इससे अगले तीन साल में ऐसे सभी क्रॉसिंग बंद हो जाएंगे। इसके अलावा मंडल रेल प्रबंधक स्तर पर ट्रेनों के संचालन से जुड़ी तमाम व्यवस्थाओं की सेफ्टी ऑडिट करवाई जा रही है। इस ऑडिट से सिस्टम में सुधार के साथ उसे पुख्ता बनाने में मदद मिली है। 

 rail ticket booking app, india rail info, indian railways inquiry, Railway, PNR Status, indian railways enquiry, ntes

सालाना निरीक्षण करते हुए फुलेरा से शुक्रवार शाम जोधपुर पहुंचे उत्तर-पश्चिम रेलवे के महाप्रबंधक अनिल सिंघल ने पत्रकारों को बताया कि देश में एक के बाद एक हुई ट्रेन दुर्घटनाओं से यात्रियों के साथ रेलवे भी चिंतित है। इसी के मद्देनजर यात्रियों का सफर सुरक्षित बनाने के लिए रेलवे में हर स्तर पर प्रयास हो रहे हैं। जोन में 70 फीसदी दुर्घटनाएं मानव रहित क्रॉसिंग पर होती हैं। जोन में हर साल ऐसे 200 क्रॉसिंग हटाए जाएंगे। सेफ्टी ऑडिट के बाद सुधार की जहां भी गुंजाइश थी, वहां काम किया गया। बीते वर्ष 12 ऐसी दुर्घटनाएं हुई थीं जिनमें यात्रियों को नुकसान हुआ था। इस साल यह आंकड़ा 4 रहा और आगे इसे शून्य करने पर जोर रहेगा। उन्होंने कहा कि ट्रेन में सफर के दौरान यात्रियों को होने वाली असुविधा और उनकी शिकायतों पर त्वरित कार्रवाई की जा रही है। जैसलमेर-कांडला नई लाइन के लिए एमओयू बनाकर राज्य सरकार को भेजा है। पीपीपी मोड पर राज्य सरकार रेलवे मिलकर काम करेगी। मारवाड़-मावली प्रोजेक्ट से उदयपुर जोधपुर की सीधी कनेक्टिविटी हो सकेगी। इस साल उत्तर-पश्चिम रेलवे को तीन हजार करोड़ रुपए का बजट मिला है। इससे ट्रेनों का सफर सुरक्षित करने, दोहरी लाइन बिछाने इलेक्ट्रिफिकेशन विस्तार के काम होंगे। 

मंडल रेल प्रबंधक राहुल गोयल ने सिटी रेलवे स्टेशन के बाहर किए गए बदलाव की महाप्रबंधक अनिल सिंघल को जानकारी दी। 

Courtsey: Dainik Bhaskar


ALSO READ :-

No comments:

People

Powered by Blogger.