IRCTC ने ठेकेदारों को किया बाहर - देखे मेनू कार्ड रेट लिस्ट

ट्रेनों में लगातार खाने की शिकायत मिलने के बाद भारतीय रेलवे ने अपनी कैटरिंग पॉलिसी में बड़े बदलावों का ऐलान किया है। रेलवे की ओर से सोमवार को जारी की गई नई नीति में कहा गया है कि अब तक जोनल रेलवेज की ओर से दिए गए ठेकों को समाप्त किया जाता है। अब ज्यादातर ट्रेनों में खाने की सुविधा आईआरसीटीसी खुद देगा। सभी नई ट्रेनों में और शॉर्ट नोटिस पर चलने वाली ट्रेनों में कैटरिंग की जिम्मेदारी आईआरसीटीसी के हवाले होगी। यानी अब किसी ठेकेदार की मनमानी के चलते आपके खाने का स्वाद नहीं बिगड़ेगा।

यही नहीं मोबाइल यूनिट्स की ओर से बेची जाने वाली खाद्य सामग्री भी आईआरसीटीसी के किचन से ही सप्लाइ की जाएगी। बेहतर खाने को ध्यान में रखते हुए आईआरसीटीसी अपनी किचन की सुविधा में भी बड़े बदलाव करेगा। यही नहीं जनआहार, सेल किचन्स समेत A1 और A कैटिगिरी के रेलवे स्टेशनों के रिफ्रेशमेंट रूम्स की जिम्मेदारी भी आईआरसीटीसी के हवाले होगी। इसके अलावा अन्य स्टेशनों पर भी जरूरत के मुताबिक आईआरसीटीसी की ओर से किचन बनाए जाएंगे।
Railways, PNR, irctc availability, Railyatri, indian railways train status, Railway app, indian railways pnr, Railways catering,
Railways MENU Rate List
रेलवे की ओर से जारी बयान में बताया गया है कि जोनल रेलवेज की ओर से किचन का स्ट्रक्चर या जगह 10 साल के लिए आईआरसीटीसी को सौंपी जाएगी। इसे बाद में 5 साल के लिए और विस्तार दिया जा सकता है। आईआरसीटीसी को किचन का स्पेस 1 रुपये प्रति स्क्वेयर फुट सालाना के दर पर मिलेगा। इन किचनों को ऐसे बिजनस मॉडल के तौर पर विकसित किए जाएगा, जिससे सेवाएं बेहतर हों और आर्थिक स्थिति भी सुधरे।


IRCTC ने बताया, कहां करें खराब खाने की शिकायत
हाल ही में आईआरसीटीसी ने एक ट्वीट कर यात्रियों को चाय, नाश्ते और खाने समेत तमाम खाद्य वस्तुओं के असली दाम बताए थे। इसके अलावा आईआरसीटीसी ने यात्रियों से कुछ भी खरीदने पर बिल लेने का सुझाव दिया था। अब रेलवे और आईआरसीटीसी ने बताया है कि यदि आपको ट्रेन में सही खाना नहीं मिलता है तो आप कहां शिकायत कर सकते हैं। रेल मंत्रालय ने ट्वीट के जरिए कहा है कि आपके खाने की क्वॉलिटी यदि सही नहीं रहती है तो आप रेल मंत्रालय और आईआरसीटीसी के ट्विटर अकाउंट को टैग कर इसकी सूचना दे सकते 



Courtesy: Indiatimes
ALSO READ :-

No comments:

People

Powered by Blogger.